उपार्जन के दौरान खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भण्डारण हेतु सुव्यवस्थित स्टेक नियोजन के निर्देश

उपार्जन के दौरान खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भण्डारण हेतु सुव्यवस्थित स्टेक नियोजन के निर्देश


रायसेन-खादए नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण संचालनालय के निर्देशानुसार समर्थन मूल्य पर फसल उपार्जन के दौरान खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भण्डारण के लिए सुव्यवस्थित स्टेक नियोजन के संबंध में कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव ने निर्देश देते हुए कहा है कि प्रायः देखा गया है कि उपर्जान केन्द्र पर उपज की तौल उपरांत बोरों की विधिवत स्टेकिंग नहीं करते हुए जगह.जगह फैलाकर रख दिए जाते हैंए जिससे असामयिक वर्षा से उपज को अधिक नुकसान की संभावना बनी रहती है।
खरीफ विपणन वर्ष 2019.20 में समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन हेतु जारी नीति में उपार्जन केन्द्र पर किसानों की उपज की तौल एवं बोरों की सिलाई उपरांत भरे बोरों की किसानवार थप्पी लगाई जाने के निर्देश दिए गए हैं जिससे परिवहन करते समय ट्रकए स्टेक में किसान की पूरी उपज आ सके। जारी निर्देश में उपार्जन केन्द्र पर बोरियों की स्टेकिंग के लिए ऊंचे स्थान अथवा प्लेटफार्म का चयन करनेए स्टेकिंग के पूर्व प्रत्येक स्टेक का आकार अधिकतम 30बाय20 रखते हुए दो लेयर रेत की बोरिया अथवा दो से तीन लेयर ईट बिछाकर उसके ऊपर डनेज पॉलीथिन तिरपाल डनेज शीट बिछाकर बोरियों की स्टेकिंग कराई जाने के निर्देश दिए हैं। उपार्जन स्थल पर स्टेकिंग की कार्यवाही केप भण्डारण की भांति डोम आकार में ही किए जानेए पुराने तथा नए बारदानों में भरे धान के बोरों की पृथक.पृथक स्टेकिंग कराई जाने के निर्देश दिए गए हैं ताकि अभिलेखों का संधारण सुव्यवस्थित तरीके से किया जा सके। इसी प्रकार किसानवार बोरों की स्टेकिंग करने के निर्देश दिए गए हैं जिससे परिवहन करते समय यथा संभव एक ट्रक में एक किसान का पूरा स्कंध लोडिंग होकर भण्डारित कराया जा सके। स्टेक लगाकर भण्डारित किए गए स्कन्ध को तिरपालए कव्हर आदि से ढक कर रस्सी से व्यवस्थित रूप से बांधने के निर्देश दिए गए हैं।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.