कंधे से कंधा मिलाने सशक्त हो रही महिला शक्ति

 

कंधे से कंधा मिलाने सशक्त हो रही महिला शक्ति

महिला एवं बाल विकास विभाग दे रहा पुलिस एवं होमगार्ड ट्रेनिंग

 अकलेश बिल्लोरे हरदा- युवतियॉं कंधे से कंधा मिलाकर युवकों के साथ चल सकें इस हेतु शासन द्वारा महिला सशक्तवाहिनी प्रशिक्षण कक्षाओं के माध्यम से उन्हें सशक्त बनाया जा रहा है। सशक्तवाहिनी प्रशिक्षण कक्षाओं के माध्यम से युवतियॉं प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग, होमगार्ड एवं पुलिस विभाग के सहयोग से ऐसी बालिकाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है, जो सुविधाओ के अभाव में होती है व जिनमें आगे बढ़ने और पढ़ने की ललक है।

                म.प्र. शासन महिला एवं बाल विकास विभाग एवं कलेक्टर जिला-हरदा के निर्देश अनुसार बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अंतर्गत युवतियो एवं बालिकाओं को पुलिस भर्ती में चयन हेतु प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से महिला सशक्त वाहिनी प्रशिक्षण कक्षा का संचालन निरंतर जिला स्तर पर निःशुल्क किया जा रहा है।

                महिला सशक्त वाहिनी प्रशिक्षण में हरदा जिले से हरदा, टिमरनी, खिरकिया एवं सिराली शहर व दूर दराज के गॉंव की युवतियॉं प्रशिक्षण ले रही है इन युवतियों को प्रशिक्षण की जानकारी स्थानीय समाचार पत्रो को पढ़ने के माध्यम से मिली है। हरदा जिले में महिला सशक्तवाहिनी कक्षाएं 02 अगस्त 2017 से संचालित है।

                प्रशिक्षण में जरूरतमंद, गरीब, निर्धन, साधनहीन परिवार की बालिकाओं एवं छात्राओं को लाभ प्राप्त हो रहा है। पुलिस भर्ती में चयन कराने के उद्देश्य से छात्राओ को लिखित परीक्षा व फिजिकल परीक्षा हेतु प्रशिक्षण दिया जा रहा है। लिखित परीक्षा में सिलेबस के अनुसार सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञान, सामान्य गणित एवं सामान्य बुध्दि के प्रश्न हल कराये जा रहे है एवं मूल्यांकन टेस्ट भी समय-समय पर कराये जा रहे है। लिखित प्रशिक्षण की तैयारी हेतु समय मिलने पर समय-समय पर पीएससी से चयनित अधिकारियो जैसे डिप्टी कलेक्टर राजनंदनी शर्मा, सहायक संचालक महिला एवं बाल विकास डॉ. राहुल दुबे, सहायक संचालक अन्य पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक विभाग एवं प्रभारी जिला जनसंपर्क अधिकारी संगीत देशमुख, सहायक संचालक, महिला एवं बाल विकास प्रीति साहू, सेल्स टेक्स कार्यालय हरदा संदीप चढ़ार, छात्रावास अधीक्षक रामेश्वर लाल रावत द्वारा छात्राओं को मार्गदर्शन एवं प्रशिक्षण दिया जाता है। इसके अतिरिक्त प्रभारी स्टेनो फॉरेस्ट विभाग घनश्याम अमकरे, आशीष विश्वकर्मा एवं अन्य अशासकीय शिक्षको द्वारा छात्राओ को नियमित रूप से निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है । इस प्रशिक्षण में कम से कम कक्षा 12 वी पास एवं पुलिस में भर्ती की योग्यता रखने वाली युवतियों की तैयारी कराई जा रही है, कक्षाओं का संचालन कार्यालय जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास बाल-गृह भवन वायपास चौराहा इंदौर रोड हरदा में सुबह सोमवार से शनिवार तक (9:00 बजे से सुबह 11:00 बजे तक) किया जा रहा है ।

                प्रशिक्षण कक्षा में छात्राओ हेतु जनभागीदारी एवं शासन के माध्यम से पुस्तकालय की व्यवस्था भी की गई है। छात्राओं हेतु कक्षा के बाद कार्यालयीन समय में पुस्तकालय में पढ़ने की व्यवस्था भी है, जहॉं छात्राऐं कार्यालयीन समय में पढ़ती रहती है।

                 फिजिकल प्रशिक्षण रविवार सुबह 7:30 बजे से 9:00 बजे तक आशीष विश्वकर्मा, रक्षा राजपूत एवं शैलेन्द्र परमार होमगार्ड विभाग, श्रीमति क्षमा तिवारी पुलिस विभाग द्वारा दिया जा रहा है फिजिकज प्रशिक्षण में छात्राओं को लंबी कूद, गोला फेंक, दौड़ आदि की गतिविधि कराकर तैयारी कराई जाती है।

प्रशिक्षण अंतर्गत 4 बालिकाओं का हुआ चयन

     अब तक इस प्रशिक्षण कक्षा में 04 बालिकाओं को चयन शासन के विभिन्न विभागो में हुआ है जिनमें प्रीति तुमराम म.प्र. पुलिस कास्टेबल, मोना गौर आर.पी.एफ. कास्टेबल, रानी निमोर आर.पी.एफ. कास्टेबल एवं सविता वाड़िवा एस.एस.सी.जी.डी. में हो गया है। ये चयनित छात्राएं ग्रामीण क्षेत्र से गरीब व छोटे कृषक परिवार से है।

शासन स्तर से की गई प्रशिक्षण कक्षा की प्रशंसा    

           हरदा जिले में संचालित महिला सशक्त वाहिनी प्रशिक्षण की प्रशंसा राज्य स्तर के महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों द्वारा व्ही.सी. के माध्यम से तथा 20 जनवरी को कृषि मंत्री कमल पटेल द्वारा की गई । साथ ही जिला पंचायत अध्यक्ष हरदा, कलेक्टर हरदा एवं फिजिकल क्लास में औचक निरीक्षण कर नगर पालिका उपाध्यक्ष हरदा द्वारा प्रशंसा व्यक्त की गई है।

अधिकारियों द्वारा समय-समय पर किया जाता है निरीक्षण

                महिला सशक्त वाहिनी कक्षा में जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास संजय त्रिपाठी एवं अधिकारियों द्वारा समय-समय पर निरीक्षण किया जाता है। महिला सशक्त वाहिनी प्रशिक्षण निरंतर विभागीय कर्मचारी आशीष विश्वकर्मा के प्रयासो से संचालित है, फिजिकल प्रशिक्षण व लिखित प्रशिक्षण में आशीष विष्वकर्मा पूर्ण समय तक प्रतिदिन उपस्थित रहते है व कक्षा का संचालन करने में शिक्षक की भूमिका निभा रहे अधिकारी व अन्य शिक्षको से समन्वय कर कक्षा का संचालन करते है। वर्तमान में रजिस्टर्ड 50 छात्राएं प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है। महिला सशक्तवाहिनी कक्षा अंतर्गत अभी तक 280 छात्राओं द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त किया गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.