परिस्थितिकी के अनुरूप हैं परम्परागत बीज एवं उनकी कृषि

 परिस्थितिकी के अनुरूप हैं परम्परागत बीज एवं उनकी कृषि

             ०-- बाबूलाल दाहिया

  

  जुलाई का तीसरा सप्ताह है। किन्तु अभी तक पर्याप्त  मानसूनी वर्षा का न होना प्रकृति की ओर से जलवायु परिवर्तन का स्पस्ट संकेत है।

         वैसे परिवर्तन  प्रकृति का एक शाश्वत नियम है । किन्तु इन दिनों जो परिवर्तन दिख रहे हैं वह प्रकृति निर्मित नही, पूरी तरह मानव निर्मित हैं। और यह भारी उद्योग एवं कृषि में आये बदलाव के कारण है। इसलिए इसका निदान भी मनुष्य को ही खोजना पड़े गा।

     


      धरती में तीन हिस्सा जल है और एक हिस्सा थल। पर उस मेसे 2.5 %  जल ही पीने और सिंचाई आदि के लिए उपयुक्त है। बाकी  समुद्र का खारा जल है। 

           पर अगर उसे एक इकाई मान लें तो उद्योग  धंधों में 15 % सिंचाई में 82.5 % एवं अन्य पीने नहाने आदि के उपयोग में 2.5% ही खर्च होता है। 

        ऐसी स्थिति न तो उद्योग धन्धे में लगने वाले 15% जल को कम किया जा सकता और नही 2.5% नहाने धोने पीने वाले जल को ही ?



   यदि कटौती होगी तो 82.5% सिचाई वाले पानी मे ही सम्भव है। और जो यह खफत  बढ़ी है वह खेती में आये बदलाव के कारण ही।

क्यो कि बिपुल उत्पादक य हाईब्रीड किस्मो के आजाने से यह किस्मे अपने बाजार मूल्यों से भी अधिक हमारा मूल्यवान पानी बर्बाद  कर रही है जिसके कारण देश की बहुत बड़ी जनसंख्या को पानी के लिए दर दर भटकना पड़ता है। और वह इसलिए भी कि खेती में मात्र चावल और गेहू का रकबा ही बढ़ा है जिसका अर्थ यह है कि यदि हम इन चमत्कारिक हाईब्रीड किस्मो की खेती कर रहे हैं तो 1किलो धान जो मात्र 17- ₹ की बिकती है उसे उगाने में 3 हजार लीटर पानी खर्च कर रहे हैं। इसी तरह यदि एक क्विंटल गेहूं उगाकर बाजार भेज रहे हैं तो उसका आशय यह है कि गाँव का 1लाख लीटर पानी बाहर भेज रहे हैं।

           इनके विपरीत हमारे परम्परागत अनाज हजारों साल से यहां की परिस्थितिकी में रचे बसे होने के वे कम वर्षा में पक जाते हैं। ओस में पक जाते है। धान की परम्परागत किस्मो को हमने देखा है कि ऋतु से संचालित होने के कारण वह आगे पीछे की बोई साथ साथ पक जाती हैं । जब कि आयातित किस्मो में यह गुण नही है और  दिन के गिनती में पकने के कारण हर चौथे दिन उनकी सिंचाई करनी पड़ती है। 

     जब कि  प्रकृति प्रदत्त वर्षा आधारित खेती के लिए होने के कारण  परम्परागत गेंहू एवं परम्परागत धान के पौधे का तना ऊँचा होता है अस्तु वह कुछ पानी गढ़े समय के लिए अपने पोर में संरक्षित करके भी रखता है।

        यही कारण है कि परम्परागत किस्मे अधिक सूखा बर्दास्त करलेती हैं। अस्तु यह परम्परागत किस्मे ग्लोबल वार्मिग एवं जलवायु परिवर्तन रोकने एवं पर्यावरण संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती हैं।

      उत्तर भारत की नदियां हिमनद हैं। पानी गिरे न गिरे हिम पिघले गा और उनमे जल आकर जल स्तर को सामान्य रखेगा। किन्तु हमारे यहां की नदियां हिम पुत्री नही वन पुत्री हैं । इसलिए इन वन जाइयो का अस्तित्व वन से ही है। 

       वन रहेगा तो पानी और पानी रहेगा तो वन साथ ही किसानी भी। इसलिए यदि हमें अपना पानी वन और किसानी बचानी है तो परम्परागत बीज भी बचाना भी जरूरी है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.