सफलता सुविधाओं की मोहताज नहीं बिना सुविधाओं के दिखा रहे दम अपनी प्रतिभा के प्रदर्शन से राष्ट्रीय स्तर पर खेलने को बेताब

 टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला व पुरुष हॉकी टीम के शानदार प्रदर्शन से उत्साहित हुए नगर के खिलाड़ियों को मिली नई उर्जा 

सफलता सुविधाओं की मोहताज नहीं बिना सुविधाओं के दिखा रहे दम         अपनी प्रतिभा के प्रदर्शन से राष्ट्रीय स्तर पर खेलने को बेताब


 मंडीदीप। मन में कुछ करने का जज्बा हो तो सफलता सुविधाओं की मोहताज नहीं होती। तमाम अड़चनों के बाद भी मुकाम पाने के रास्ते खुलते चले जाते हैं इस कहावत को नगर के हॉकी खिलाड़ी भलीभांति चरितार्थ  कर रहे हैं।इन खिलाड़ीयों नें अपने जोश, जज्बे और लगन से छोटी सी उम्र में ना केवल बड़ी कामयाबी हासिल की बल्कि सुविधाओं के बिना भी राज्य और राष्ट्रीय  स्तर की स्पर्धाओं में दमखम दिखाकर नगर का नाम देश में रोशन कर रहे हैं। इन खिलाड़ियों का कहना है कि यदि उन्हें खेल मैदान सहित अन्य सुविधाएं मिले तो वे भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं बहरहाल बिना सुविधाओं के भी राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर उम्दा प्रदर्शन करने वाले यह खिलाड़ी खेलों के महाकुंभ टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला और पुरुष हॉकी टीम द्वारा किए गए शानदार प्रदर्शन से ना केवल बहुत उत्साहित हैं बल्कि उन्हें आगे बढ़ने के लिए भी नई ऊर्जा मिल गई है। और अब उर्जा से लवरेज  वे अपने नन्हे कदमों से लंबी दूरियां नापने के सपने बुनने लगें हैं। 

गौरतलब है कि उद्योग नगरी में  खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा 2011 में हाँकी फ़ीडर सेंटर प्रारंभ किया गया था। जिसमें 20 बालक एंव 20 बालिका खिलाड़ियों को वर्ष भर प्रशिक्षण देने के अतिरिक्त खेल किट , खेल उपकरण उपलब्ध कराये जाते है।विगत 10 वर्षों में इस सेंटर  की 40 बालिकाओं एंव 30 बालक खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रदेश की टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

हॉकी की नर्सरी बन रहा नगर:

 विभाग द्वारा नगर में फीडर सेंटर खोलने के बाद से नगर हॉकी की नर्सरी बनता जा रहा है। हॉकी की नर्सरी बन रही उद्योग नगरी से अब तक पिछले 10 वर्षों में  7 बालक एंव 5 बालिका खिलाड़ियों का चयन राज्य खेल अकादमी में किया जा चुका है। इस सेंटर की खिलाड़ी कु. स्वेता डागौर  सीनियर एंव कु. आरती भलावी का चयन जूनियर भारतीय महिला हाँकी टीम के प्रशिक्षण शिविर के लिए भी किया जा चुका है । जबकि  राष्ट्रीय हाँकी चैम्पियनशिप में  शानदार प्रदर्शन करने वाली कु. सोनिया कुमरे का  भारतीय टीम में चयन की पूरी संभावना है ।

सर्व सुविधा युक्त खेल मैदान की आवश्यकता:

ज्ञात है कि नगर में एक भी खेल मैदान नहीं है कहने को मंगल बाजार में एक खेल मैदान है परंतु उस पर कोर्ट केस चल रहा है ऐसे में खिलाड़ियों ने शासकीय राजा भोज कॉलेज के पास 7 एकड़  भूमि की मांग करते हुए वहां  सिंथेटिक टर्फ़ लगाने सहित सर्व सुविधा युक्त खेल मैदान की आवश्यकता जताई है। विवेकानंद स्पोर्ट एकेडमी के अध्यक्ष सरोज गिरी का कहना है कि यदि शासन प्रशासन उनकी मांग पर संवेदनशीलता से ध्यान देते हैं तो इससे ना केवल खिलाड़ियों के प्रदर्शन में सुधार आएगा बल्कि कोच नए नए खिलाड़ी भी तैयार कर सकेंगे। 

मंडीदीप हाँकी मैदान पर ज़िला खेल अधिकारी जलज चतुर्वेदी, वरिष्ठ खिलाड़ी आर.पी. गोहे, संरक्षण हाँकी व खेल प्रेमी जगदीश सोनी , दिनेश दाँगी, रिज़वान अली , प्रह्लाद राठौर,शुभम खटीक, आलोक भार्गव, आशीष पाल , राहुल डागौर, सौरभ सिंह ,लखन सियोटे, मनीष मालवीय व बड़ी संख्या में बालक-बालिका खिलाड़ी उपस्थित रहे ।

इनका कहना है

अभी मंडीदीप में कोई खेल मैदान नहीं है इसके बाद भी हॉकी खिलाड़ी स्टेट और नेशनल लेवल पर शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। हमने जिला प्रशासन से 7 एकड़ भूमि की मांग की है। भूमि आवंटन होते ही हाँकी सिंथेटिक टर्फ़ लगाने के लिए प्रस्ताव स्वीकृति हेतु संचालनालय खेल और युवा कल्याण विभाग को प्रेषित किया जायेगा ।

जलज चतुर्वेदी, डीएसओ खेल एवं युवा कल्याण विभाग रायसेन

टोक्यो ओलम्पिक में भारतीय हाँकी टीम की ऐतिहासिक सफलता पर हाँकी फीडर सेंटर मंडीदीप में खिलाड़ियों ने ढोल की थाप पर नाचे व मिठाई खिलाकर एक दूसरे को बधाई दी ।


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.