जिम्मेदारों की गलती की कीमत चुका रहे एक परिसर एक शाला में पढ़ने वाले 85 स्कूलों के 7000 से अधिक विद्यार्थी 7 महीने से न मध्यान भोजन का राशन मिला ना ही राशि

 जिम्मेदारों की गलती की कीमत चुका रहे एक परिसर एक शाला में पढ़ने वाले 85 स्कूलों के 7000 से अधिक विद्यार्थी

7 महीने से न मध्यान भोजन का राशन मिला ना ही राशि 

प्राइमरी के 210 और मिडिल की 28 शालाओं में अध्ययनरत बच्चों को ही आवंटित हुआ 3 महीने का मध्यान्ह भोजन राशन,

 मंडीदीप।सब डिवीजन के एक परिसर एक शाला के अंतर्गत आने वाले 85शासकीय  प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले  लगभग 7000 से अधिक विद्यार्थियों को पिछले 7 महीने से ना तो मध्यान भोजन का राशन आवंटित हुआ और ना ही खाते में राशि ही आई ।ऐसे में इन विद्यार्थियों को शासन द्वारा संचालित की जा रही कल्याणकारी मध्यान्ह भोजन योजना से वंचित होना पड़ रहा है ।दरअसल एक परिसर एक शाला में अलग-अलग मध्यान्ह भोजन बनाने वाले रसोईये होने के कारण शासन ने इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को दी जाने वाली मध्यान्ह भोजन राशन  की राशि आवंटित नहीं की ।हालांकि अधिकारी विभाग के पोर्टल पर जानकारी अपडेट करने की बात कह रहे हैं |इसके बाद एक-दो दिन में इन बच्चों के खाते में मध्यान्ह भोजन की राशि डाल दी जाएगी । 

 यहां बता दें कि स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा बीते माह पहली से आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को मध्यान्ह भोजन का राशन वितरण करने के आदेश जारी किए गए थे।लेकिन वे एक परिसर एक शाला मे पढ़ने वाले विद्यार्थियों के हिस्से का राशन जारी करने के आदेश करना भूल गए ।इसके परिणाम स्वरूप प्राइमरी के 210 और मिडिल की 28 शालाओं में अध्ययनरत बच्चों को ही  3 महीने का मध्यान्ह भोजन राशन

 आवंटित हो सका । वहीं एक परिसर एक शाला के अंतर्गत आने वाले85 स्कूलों को राशन आवंटित नहीं किया गया इस कारण इन स्कूलों में पढ़ने वाले 7000 से अधिक छात्र छात्राओं को राशन से वंचित होना पड़ा ।इस तरह अधिकारियों की एक गलती ने इन स्कूलों में पढ़ने वाले आठवीं कक्षा तक के हजारों विद्यार्थियों के सामने खाने का संकट खड़ा कर दिया है। विभागीय अधिकारियों की गलती से पिछले 7 महीने से मध्यान्ह भोजन राशन मिलने का इंतजार कर रहे राशन मिलने से महरूम विद्यार्थी अधिकारियों से गलती सुधारने की उम्मीद लगाए बैठे हैं ताकि उन्हें शीघ्र अति शीघ्र राशन मिल सके ।

ज्ञात है कि विकासखंड के अंतर्गत कक्षा 1 से 5 तक 296 और 6 से 8 तक के 106 स्कूल आते हैं। इनमें से बीते 2 वर्ष पहले 85 प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूलों को  एक परिसर एक शाला योजना के अंतर्गत हाई या हायर सेकेंडरी स्कूलों में मर्ज कर दिया गया था। इसी आधार पर शासन ने एक परिसर एक शाला स्कूलों को छोड़कर 210 प्राथमिक एवं 28 माध्यमिक शालाओं के बच्चों को ही मिड डे मील का राशन देने के आदेश दिए हैं।

कितना राशन मिलता है:

शिक्षा विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार शासन की ओर से प्राथमिक स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को प्रतिदिन 100 ग्राम के मान से गेहूं और चावल दिया जाता है, जबकि मिडिल स्कूल में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को 150 ग्राम के हिसाब से राशन मिलता है।

इनका कहना है

शासन ने एक शाला एक परिसर में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को राशन आवंटित नहीं किया है। इस भूल को हमने पोर्टल पर सुधारने का काम कर लिया है । ऐसे विद्यालयों में मध्यान्ह भोजन बनाने वाले स्व सहायता समूह का आधार अपडेट कर लिया गया है । अब एक-दो दिन में राशन आवंटित हो जाएगा । 

शिवनारायण चौहान, बीआरसी औबेदुल्लागंज

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.