अपनी बेबाक शायरी और सटीक उपन्यास लिखकर शुर्खियो में आए सुभाष कुमार

 अपनी बेबाक शायरी और सटीक उपन्यास लिखकर शुर्खियो में आए सुभाष कुमार 

हरदा से अभिषेक दमड़े uni. रिपोर्टर

  हरदा- हरदा जिले के छोटे से गांव डोमरा के रहने वाले हैं ये एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते है।

इनकी जिंदगी संघर्ष पूर्ण रही है लेकिन गांव के लोगो में भी कई प्रतिभाएं छुपी होती है इस बात का ये प्रमाण है।इनकी लेखन शैली से लोग काफी प्रभावित है इसका अंदाज इसी बात से लगता है कि इनका आने वाला  उपन्यास कातिल नर्स को लेकर लोगो में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है।इनके गांव से लेकर जिले तक लोगो को गर्व महसूस होता है   वो कहते है कि इंसान को वही करना करना चाहिए जो उसका दिल करे लेकिन मनपसंद काम करने में समस्या बहुत आती है।और समस्या पर जीत हासिल करना ही जिंदगी है। आम रास्ता से चलने में और अपना रास्ता खुद बनाकर चलने में बहुत अंतर है। खुद का रास्ता बनाने में समय लगता है लेकिन एक बार बन गया तो सब आसान हो जाता है।इसी बीच लोग जाते हंसते ,मजाक बनाते है।लेकिन घबराए नहीं लगन और मेहनत से काम कीजिए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.