शिव शक्ति सेवा मंडल के 26 सदस्यीय दल ने अयोध्या में रामलला के दर्शन कर बाल्मीकि रामायण मंदिर के श्रीराम नाम बैंक में जमा की 7 करोड़ 51 लाख राम नाम लिखी 4000 पुस्तिकाएं

 शिव शक्ति सेवा मंडल के 26 सदस्यीय दल ने अयोध्या में रामलला के दर्शन कर बाल्मीकि रामायण मंदिर के 

श्रीराम नाम बैंक में जमा की  7 करोड़ 51 लाख राम नाम लिखी 4000 पुस्तिकाएं

मण्डीदीप ।  नगर से मंगलवार को रवाना हुआ श्री शिव शक्ति सेवा मंडल भक्ति भाव के साथ गुरुवार को श्री राम जन्मभूमि अयोध्या पहुंचा।वहां उन्होंने सबसे पहले भगवान श्री राम लला के दर्शन किए । इसके बाद हनुमानगढ़ी में हनुमान जी के दर्शन पश्चात बाल्मीकि रामायण मंदिर की श्री राम नाम बुक बैंक में मंडीदीप का खाता खुलवाया और वहां 7 करोड़ 51 लाख  श्री राम नाम लिखी 4000 पुस्तकों को  बुक बैंक में जमा किया।  प्रतिनिधिमंडल के संचालक अध्यक्ष विपिन भार्गव और एनके भारद्वाज ने बताया कि गत वर्ष 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की आधारशिला रखी गई थी। इसलिए उन्होंने आज के दिन ही 7 करोड़ 51 लाख श्री राम नाम पुस्तक माला को श्री राम नाम बैंक में जमा करने का संकल्प लिया था। जिसे नगर के समस्त धर्म प्रेमी बंधुओं  के सहयोग से पूर्ण करने में सफलत मिली। नगर के श्रद्धालुओं द्वारा 4000  पुस्तकों में 7 करोड़ 51लाख श्रीराम नाम लिखने का कार्य पिछले एक साल में पूर्ण किया गया।  भार्गव ने बताया कि नगर के ऐसे लोग भी हैं जो यहां नहीं पहुंच सके।लेकिन उनके द्वारा लिखित श्री राम नाम पुस्तकों को बुक बैंक तक पहुंचा दिया गया है। वहीं मंडल के सदस्य राजेश भवरे ने बताया कि गुरुवार को  मंडल के सभी 26 सदस्यों ने अयोध्या के दशरथ महल, कनक महल और सरयू मैया के तट सहित अन्य प्रमुख स्थलों के दर्शन किए। शुक्रवार को काशी विष्वनाथ के दर्शन करने प्रस्थान करेंगें।
   मंडल के 26 सदस्यों ने श्री हनुमानगढ़ी स्थित श्रीराम नाम बैंक में पहुंचकर सड़े चार लाख पुस्तकों को जमा किया। इस अवसर पर श्री भार्गव के साथ विजय श्रीवास्तव महाराज सिंह गौर, शोभा राम रघुवंशी, मनोज सोनी, सुभाष मालवीय, कुँवर सिंह राजपूत, निर्मल यादव, सुनील वासवानी, वी के शर्मा,रमेश शर्मा, प्रताप पाल, उषा विपन भार्गव, बहादुर नरवरिया,नारायण सिंह राजपूत,राजेश भवरे सहित संगठन के पदाधिकारी साथ थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.